.सेल्फी का नशा.


 हमारा आज का शीर्षक है *सेल्फी का नशा

आपको पहले समझा दें, आख़िर ये सेल्फी होती क्या है ?       दरअसल यह सेल्फी अंग्रेजी के शब्द *सेल्फिश* की तर्ज पर बना हुआ शब्द है,जिसका मतलब होता है : खुदगर्ज यानी स्वार्थी     अत: इस तरह सेल्फी की परिभाषा " सेल्फी एक ऐसी तस्वीर है ,जो आप अपने मोबाइल का उपयोग करते हुए खींचते हैं,"।                          

   सेल्फी अब तरह-तरह के तरीकों से खींची जाती है , समय के साथ इसके तौर-तरीकों में परिवर्तन हुए हैं,जैसे : हंसती हुई सेल्फी,रोती हुई सेल्फी, दांत दिखा कर सेल्फी, डेंजरस सेल्फी,ग्रुप सेल्फी और ऐसे अनेक अनेक तरीके,,,आप सब सोच रहे होंगे, मै व्यंग कर रहा लेकिन यकीन मानिए यही  सच्चाई है, एक सच्चाई यह भी है, कि सेल्फी ने लोगों को सेल्फिश बना दिया है,आज सेल्फी लोगों की जिंदगी का प्रमुख हिस्सा बन गया है,कोई बच्चा जन्म ले तो सेल्फी, कोई दुखी हो तो सेल्फी, कहीं नई जगह पर जाए तो सेल्फी,सेल्फी ने तो मरने वालों को भी नहीं छोड़ा उनके साथ भी सेल्फी ,यही है सेल्फी ,सच कह रहा हूं मै , विश्वास कीजिए।       

सेल्फी के कुछ अच्छे पहलू भी हैं,जिन्हें दर्शाना जरूरी है : हरियाणा के एक गांव के प्रधान *सुनील जाखड़* ने तो सेल्फी के दम पर ही इतिहास रच दिया उनकी सेल्फी अभियान के तौर पर आज तक जानी जाती है, उनकी अपने बेटी के साथ ली गई सेल्फी ने बेटियों को नई जिंदगी प्रदान की है, *सेल्फी विथ डॉटर* ने  उन्हें ऐसी ख्याति दिलाई कि तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उन्हें सम्मानित किया,असल में *सेल्फी विथ डॉटर* ने बेटी बचाओ की नींव रखी, ऐसे कई उदाहरण हैं जिसने लोगों की जिंदगी बदल दी।     

 अभी कुछ ही दिन तो हुए  राजस्थान के *जोधपुर* में बहुत बड़ा सड़क हादसा हुआ, लोग अपनी जिंदगी की आखिरी सांसो के लिए लड़ रहे थे,तभी कुछ लोगों ने वहां सेल्फी लेनी शुरू कर दी, एक छोटा सा लड़का जो उस सड़क हादसे में अपनी अंतिम सांस को बचाने के लिए लोगों से पानी मांग रहा था, उसकी आवाज साफ प्रतीत नहीं हो रही थी,वह मांगते मांगते थक गया और अंततः वह बच्चा पानी मांगते मांगते मर गया,लेकिन लोगों की सेल्फी का सिलसिला अभी तक खत्म नहीं हुआ ऐसी सेल्फी लेने से क्या फायदा ? आख़िर सेल्फी इतनी जरूरी क्यों ?                               

 सेल्फी लेना बुरी बात नहीं ,लेकिन सेल्फी किस वक्त ,कब ली जाए,,,ये प्रावधान जरूरी है, अब ये हमारे हाथ में है, हम सेल्फी का कैसे उपयोग करते है ।।।।




Have a Happy and Learning Day
DIVYANSH (PGDJMC)


Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

स्वच्छ भारत

Back to Childhood